थाली में पोए, रोग दूर होए

हरी पत्तेदार सब्जी में आने वाली पोय गुणो से भरपूर है।पोए कई विटामिन, लवण, ऐंटीऑक्सीडेंट, फेनोलिक फाइटोकैमिकल्स और करोटिनोइड्स का बहुत अच्छा स्रोत है। यह ओस्टिओपोरोसिस, ऐनिमिया, हृदय धमनी रोगों, हर्निया, कई प्रकार के कैंसर जैसे मेलानोमा, ल्यूकीमिया ओरल और कोलोन कैंसर से बचाव और इलाज में सहायक है...

औषधीय गुणों की खान है मकोय

मकोय औषधीय महत्व की एक ऐसी वनस्पति है जो कहीं भी बड़ी आसानी से मिल जाएगी। पर ये अपनी पहचान खोती जा रही है। खर पतवारों के साथ उगने वाला ये पौधा प्राचीन समय से अपने औषधीय महत्व की वजह से एक खास स्थान रखता है। गाँव घरों में दादी नानी के समय में बहुत सी …

पोषण की खान है कैथा

कैथे के कच्चे फल में पके फल की अपेक्षा विटामिन सी और अन्य फ्रूट एसिड की अधिक मात्रा होती है वहीं बीज में प्रोटीन ज्यादा मात्रा में होता है। कैथा स्कर्वी रोग से बचाव और इलाज में सहायक है...

हरफरौरी है गुणों की खान

आमतौर पर सजावटी पेड़ की तरह लगाया जाने वाला हरफरौरी का पेड़ अब शहरों के साथ गावों मे भी कम दिखाई पड़ने लगा है। परंतु आदिवासी क्षेत्रों में ये आसानी से उपलब्ध है। आदिवासी क्षेत्रों में पहले से लेकर आजतक इसका इस्तेमाल भोजन में होता आ रहा है...

पौष्टिकता एवं औषधीय गुणों की खान गूलर

गूलर अंजीर के जैसा दिखने वाला फल है। ग्रामीण क्षेत्रों के अलावा शहरी क्षेत्रों में भी अधिकतर लोग गूलर से परिचित तो होंगे पर इसका उपयोग भोज्य पदार्थ के रूप में घटता जा रहा है। हमारे व्यंजनो में गूलर के व्यंजनो की जगह धीरे - धीरे कम होती जा रही है जबकि ये पौष्टिकता से भरपूर एवं औषधीय गुणो की खान है। गूलर का कच्चा फल स्वाद में हल्का कसैला(स्लाइटली एस्ट्रिंजेंट) और पका फल मीठा होता है। गूलर का कच्चा फल हरा और पका फल हल्का लाल (डल रेड) होता है...